कोरोना: भीलवाड़ा का सब कुछ दांव पर, क्या कर रही है सरकार?

     राजस्थान में अब तक कोरोना वायरस के 45 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें 21 कोरोना पॉज़िटिव मामले अकेले भीलवाड़ा ज़िले से हैं.राज्य में कोरोना संक्रमण से पहली मौत भी गुरुवार को भीलवाड़ा में ही हुई थी. इसके बाद गुरुवार रात ही एक अन्य शख़्स की मौत भी कोरोना संक्रमण की वजह हो गई. स्वास्थ्य विभाग ने भीलवाड़ा की संवेदनशीलता को देखते हुए 332 मेडिकल टीमों से शहर के एक लाख घरों के पांच लाख सदस्यों और 1948 टीमों के ज़रिए 19 लाख ग्रामीण लोगों का सर्वे कराया है.



     राजस्थान के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने वीडियो जारी कर कहा है कि पिछले तीन-चार दिनों में कोरोना पॉज़िटिव मामले कुछ बढ़े हैं. भीलवाड़ा के करीब 28 लाख लोगों में से 24 लाख लोगों की स्क्रीनिंग करवा दी गई है. उन्होंने कहा, "भीलवाड़ा से लिए सैंपल की जांच की जा रही है. अगले दो दिन में 700 सैंपलों की जांच और हो जाएगी. ग्रामीण इलाकों के बचे चार लाख लोगों की स्क्रीनिंग अगले दो दिनों में पूरी कर ली जाएगी."


   भीलवाड़ा, जयपुर, झुंझुनूं और जोधपुर से गुरुवार को भी नए मामले सामने आए हैं. प्रदेश में कोरोना पॉज़िटिव मामलों की कुल संख्या अब 45 हो गई है. अकेले भीलवाड़ा में ही 21 पॉज़िटिव मामले मिलने से सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं. गुरुवार को राजस्थान से पांच मामले सामने आए, जिनमें दो भीलवाड़ा से हैं.


  भीलवाड़ा इस समय 'राजस्थान का इटली' बना हुआ है. यहां सर्वाधिक मामले हैं और इनकी संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. इसके बावजूद दो दिन से राजस्थान के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा और भीलवाड़ा विधायक विट्ठल शंकर अवस्थी के बीच स्थानीय हालात पर बात तक नहीं हुई है.