कोरोना की दहशत : इजरायली PM के बाद अब फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने भी कहा 'नमस्ते'

     कोरोना वायरस की दहशत पूरी दुनिया में जारी है। अभी तक 60 से अधिक देशों में 121161 मरीजों की पहचान हो चुकी है। डॉक्टरों का मानना है कि यह वायरस लोगों के संपर्क में आने के कारण होता है। यही वजह है कि अब लोग हाथ मिलाने की जगह भारतीय पद्धति नमस्ते से एक-दूसरे का अभिवादन कर रहे हैं।


(Photo - फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन)



     सबसे पहले इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने देश के लोगों को नमस्ते के जरिए एक-दूसरे के अभिवादन करने की सलाह दी थी। वहीं, अब फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन ने भी नमस्ते कर अभिवादन करने का फैसला किया है। भारत में मौजूद फ्रांसीसी राजदूत इमैनुएल लेनिन ने ट्वीट कर यह जानकारी दी।


   इससे पहले कोरोना वायरस को लेकर समीक्षा बैठक के बाद नेतन्याहू मीडिया को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए कई कदम उठाए गए हैं। हमारी सरकार लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुई है। इस दौरान उन्होंने कोरोना से बचने के उपाय का जिक्र करते हुए कहा था कि हम भारत के अभिवादन की पद्धति नमस्ते को अपनाएं और हाथ मिलाने से बचें।


थरूर ने की थी सराहना - नेतन्याहू के इस सलाह पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने भी प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, 'हमारी हर परम्परा में विज्ञान है, तभी तो भारत महान है।'


अकेल चीन में 80,778 कोरोना के मरीज - मंगलवार तक चीन में कुल 80,778 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। इनमें पिछले तीन महीनों में बीमारी के कारण मरने वाले 3,158 लोग, इलाज करा रहे 16,145 लोग और सेहत में सुधार के बाद अस्पताल से छोड़े गए 61,475 लोग शामिल हैं।