चीन को मात देने के लिए उसके सामान का बहिष्कार जरूरी - बाबा रामदेव

     लद्दाख की सीमा पर करीब एक महीने से चीन से जारी तनातनी पर चर्चा के लिए ई-एजेंडा कार्यक्रम की सीरीज में 'सुरक्षा सभा' का आयोजन किया है. ई-एजेंडा सुरक्षा सभा के सत्र- स्वदेशी का दम, हिन्दुस्तान से 'चीनी कम' में योग गुरु बाबा रामदेव शामिल हुए. इस दौरान उन्होंने खुले तौर पर कहा कि सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक हर स्तर पर चीन का बहिष्कार भारत में किया जाना चाहिए.



     रामदेव ने कहा कि देश की सीमाओं की सुरक्षा करने में हमारी सेना पूरी तरह से सक्षम है. चीन को हथियार से ज्यादा मात देने के लिए उसके समानों का बहिष्कार किया जाना चाहिए, क्योंकि 15 से 20 लाख करोड़ का कारोबार चीन हमारे देश से करता है. देश में आज टॉयलेट की सीट से लेकर खिलौना सहित तमाम चीन के उत्पाद आ रहे हैं.


     बाबा रामदेव ने कहा कि चीन के उत्पादों के बहिष्कार के लिए बड़े संकल्प लेने होंगे. मैंने पिछले तीन दशक से चीन के किसी भी उत्पाद का इस्तेमाल नहीं किया है. चीन को अगर सबक सिखाना है तो हर भारतीय को चीनी उत्पादों के बहिष्कार का संकल्प लेना होगा. चीन को सबक सिखाने का सबसे सही यही तरीका है. बाबा रामदेव ने कहा कि चीन जवाहर लाल नेहरू के समय से भारत-चीनी भाई-भाई का नारा देकर हमें लूट रहा है. ऐसे में चीन के उत्पादों का सिर्फ बहिष्कार ही नहीं बल्कि उसके प्रति नफरत का माहौल भी तैयार करना होगा.