हांगकांग में चीन के कानून लागू होने के बाद Facebook, Twitter ने दिया बड़ा झटका

     फेसबुक, गूगल और ट्विटर ने सोमवार को कहा कि उन्होंने चीन के सुरक्षा कानून लागू होने के बाद हांगकांग सरकार की ओर से मांगी जा रही यूजर्स की जानकारी देना बंद कर दिया है. फेसबुक प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता एक मौलिक मानवीय अधिकार है. हम लोगों की सुरक्षा के लिए बिना किसी डर के खुद की बात रखने के अधिकार का समर्थन करते हैं. 



     फेसबुक, टेलीग्राम और व्हाट्सऐप ने पहले ही साफ कर दिया है कि वह हांगकांग सरकार की ओर से यूजर्स डेटा के निवेदन को स्वीकार नहीं करेंगे. ट्विटर ने कहा, 'ट्विटर अभिव्यक्ति की आजादी की चिंता करता है. हम यूजर्स की अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं.'


     सोशल मीडिया कंपनियों का कहना है कि वे सुरक्षा कानून के निहितार्थों का आकलन कर रही हैं, जिसके तहत उन चीजों को प्रतिबंधित किया गया है,जिसे बीजिंग अलगाववादी, विध्वंसक या आतंकवादी गतिविधियों या शहर के आंतरिक मामलों में विदेशी हस्तक्षेप के रूप में देखता है. गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा, 'पिछले बुधवार को, जब कानून लागू हुआ तो हमने हांगकांग के अधिकारियों से किसी भी तरह के नए डेटा को देने पर रोक लगा दी है. हम नए कानून के डिटेल की समीक्षा करना जारी रखेंगे.'


TikTok ने भी बंद की सेवाएं- टिकटॉक ने एक बयान में कहा कि हालिया गतिविधियों को देखते हुए हांगकांग में अपनी सेवाएं रोकने का फैसला लिया है. हांगकांग में बीते सप्ताह लागू हुए इस राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत पुलिस को व्यापक अधिकार प्राप्त हैं, जिसके तहत उन्हें बिना वारंट के तलाशी लेने, संदिग्धों को शहर छोड़ने से रोकने और संचार बाधित करने समेत तमाम अन्य कार्रवाई करने की अनुमति होगी


Popular posts
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image