हाथरस प्रकरण में उत्तर प्रदेश सरकार ने किया सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल
 उत्तर प्रदेश संवाददाता (राहुल वैश्य)

 

     हाथरस प्रकरण में उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया, जिसमें सरकार ने कोर्ट से आग्रह किया है कि मामले की सीबीआई जाँच कोर्ट की निगरानी में की जाए. जिससे इस मामले का राजनीतिकरण होने से रुके। इस हलफनामे में राज्य सरकार ने यह भी बताया कि पीड़ित परिवार और गवाहों की सुरक्षा के लिए पुख्ता इन्तेज़ाम किए गए हैं.  सुरक्षा को 3 लेयर में बांटा गया है।

 

(फोटो - हाथरस प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई पूरी होने के बाद गुरूवार को फैसला सुरक्षित रख लिया)


 

     इसके हाथरस प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट द्वारा गुरूवार को भी सुनवाई हुई। पीड़ित परिवार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुई वकील सीमा कुशवाह ने माँग रखी कि मामले से जुड़ी सभी जांच पूरी होने के बाद इस मामले का ट्रायल दिल्ली में हो. वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश सरकार की और से पेश हुए वकील सिलिस्टर जनरल तुषार मेहता ने पीड़ित परिवार को मुहैया कराई जा रही सुरक्षा का ब्यौरा सुप्रीम कोर्ट में सौंपा। गुरुवार को मामले की सुनवाई पूरी होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है।

     

     इधर हाथरस प्रकरण में सीबीआई ने तीसरे दिन भी जाँच जारी रखी और तीसरे दिन आरोपियों के परिवारजनों से पूछताछ की गयी। कयास लगाए जा रहें है कि आरोपियों का बयान दर्ज करने के लिए सीबीआई मथुरा कोर्ट में याचिक दायर कर चारों आरोपियों की कस्टडी माँग सकती है।


 

उत्तर प्रदेश में कोरोना अपडेट : पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 2728 नए कोरोना के मरीज मिले। जिसके बाद प्रदेश में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव हुए मरीजों की सँख्या 4,47,383 हो चुकी हैं. जिसमें से 4,04,545 मरीज उपचारित हो कर ठीक हो चुके हैं. प्रदेश मे कोरोना महामारी से 6,543 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है।