आप मान्यवर सिर्फ चुनाव के समय बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण के पक्ष में दिखाई देते हैं

द्वारा - भानु सहाय  


     बुन्देलखंड निर्माण मोर्चा  के तत्वावधान में क्षेत्रीय संसद अनुराग शर्मा को पत्र सौप कर एवं अन्य 8 संसद सदस्यों को रजिस्ट्री द्वारा पत्र भेज कर कहा कि पृथक बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण आन्दोलन में आपका सक्रिय सहयोग व समर्थन प्राप्त होता रहा है। समाचार पत्रों के माध्यम से लगातार ऐसी खबरें प्राप्त हो रही है, कि केन्द्र सरकार छोटे राज्यों के निर्माण पर गम्भीरता से विचार कर रही है। केन्द्र सरकार को जन भावनाओं से अवगत कराने एवं दबाव बनाये रखने के लिये, आपसे आग्रह है कि माननीय प्रधानमंत्री, माननीय गृहमंत्री एवं अपने राजनैतिक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र लिखकर, आग्रह करने की कृपा करें कि हम बुन्देलखण्डवासी (उत्तर प्रदेश एंव मध्य प्रदेश क्षेत्र) अखण्ड बुन्देखण्ड राज्य शीघ्र बनाये जाने के पक्षधर है। माननीय प्रधानमंत्री को लिखे गये पत्र की प्रति समाचार पत्रों को भेजे जाने की कृपा करे। जिससे बुन्देलखण्ड वासियों को यह मालूम रहै कि आप मान्यवर बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण के पक्ष में है।



     ऐसा नही किये जाने पर बुन्देलखण्ड वासियों को यह अहसास हो जायेगा कि आप मान्यवर सिर्फ चुनाव के समय बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण के पक्ष में दिखाई देते हैं व चुनाव समाप्त हो जाने के बाद आप मान्यवर भी पूर्व के जनप्रतिनिधियों की भांति राज्य निर्माण के मुद्दे को बिसार रहे है. जैसा कि सुश्री उमा भारती ने मा. नरेन्द्र मोदी एवं मा. राजनाथ सिंह के समक्ष बुन्देलखण्ड वासियों से वादा किया था - कि 3 साल के भीतर बुन्देलखण्ड राज्य बनवा दिया जायेगा। 3 साल की जगह 6 साल 5 माह बीत गये पर अभी तक केन्द्र सरकार ने बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण के पक्ष में किसी भी तरह की कोई कार्यवाही तक प्रारम्भ नही की है। जिससे बुन्देलखण्ड वासियों में आक्रोश व्याप्त होता जा रहा है।


     बुन्देलखण्ड की जनता आप मान्यवर की ओर आशा भरी निगाहों से निहार रही है। आपका सहयोग अगर प्राप्त नही हुआ तो वाध्य होकर सड़क पर विरोध किया जायेगा जिसका उत्तरदायत्व आपका होगा। पूर्व में भी इस आश्य का पत्र भेजा गया था परन्तु आप मान्यवर का उत्तर प्राप्त नही हुआ है। पत्र सौपने वालो में भानू सहाय, रघुराज शर्मा, हमीदा अंजुम, वरुण अग्रवाल, गिरजा शंकर राय, उत्कर्ष साहू, गोलू ठाकुर, रसीद कुरैसी, प्रदीप नाथ झा, नरेश वर्मा, ब्रजेश राय, प्रेम सपेरे, विकास पुरी, अनिल कश्यप, राम गुप्ता सदर, अनुराग मिश्रा (अन्नू) प्रभुदयाल कुशवाहा आदि उपास्थित रहे.