भारत ने 59 ऐप बैन किए तो चीनी मीडिया को हुई चिंता, कंपनियों को दी ये चेतावनी

    लद्दाख में चीन से जारी सैन्य तनाव के बीच भारत ने आर्थिक मोर्चे पर भी चीन को घेरना शुरू कर दिया है. भारतीय कंपनियों में विदेशी निवेश के नियमों को सख्त करने के बाद अब भारत सरकार ने सुरक्षा कारणों से टिक टॉक समेत 59 चीनी ऐप्स पर बैन लगा दिया है. भारत के सख्त फैसलों से चीन को हो रहे आर्थिक नुकसान को लेकर चीनी मीडिया से तीखी प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं.





     चीन की सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के संपादक हु शिजिन ने भारत में 59 चीनी ऐप बैन होने के बाद ट्वीट में तंज किया, 'अगर चीनी लोग भारतीय वस्तुओं का बहिष्कार करना भी चाहें तो उन्हें बहुत भारतीय वस्तुएं मिलेंगी ही नहीं.' इसके बाद उन्होंने 'भारतीय दोस्तों' को आगाह करने की कोशिश की कि राष्ट्रवाद से ज्यादा कई दूसरी चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है.
     भारत-चीन के बीच अगर व्यापार कम होता है तो इसका ज्यादा असर चीन पर ही पड़ेगा. चीन के साथ भारत व्यापार घाटे की स्थिति में है यानी वह चीन से आयात ज्यादा करता है और निर्यात बेहद कम. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी चीन के साथ अपने व्यापार घाटे का हवाला देते हुए कहा था कि चीन से संबंध खत्म करने पर अमेरिका को फायदा ही होगा. यही वजह है कि चीन दोनों देशों के बीच व्यापार कम होने की आशंका से ज्यादा परेशान है.






     ग्लोबल टाइम्स ने चीनी कंपनियों और निवेशकों को आगाह किया है कि दोनों देशों के संबंधों में बढ़ती अनिश्चितताओं के बीच चीन को भारत में अपने निवेश का अच्छी तरह से मूल्यांकन करना चाहिए और चीनी निवेशकों को भी भारत में राष्ट्रवाद के उभार को लेकर सावधान हो जाना चाहिए.