चीन के पुराने नक्शे भी करते हैं गलवान घाटी पर भारतीय दावे का समर्थन

     भारतीय सैनिकों पर 15 जून को घात लगा कर किए गए हमले के बाद चीन सरकार और चीनी मिलिट्री लीडरशिप ने तत्काल बयान जारी कर बीजिंग के उन दावों पर जोर दिया जिनमें वो पूरे गलवान घाटी क्षेत्र को अपना बताता है. चीन के विदेश मंत्रालय और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की पश्चिमी कमान की ओर से दिए गए अलग-अलग बयानों से पता चलता है कि चीन की कोशिश LAC के पास गलवान और श्योक नदियों के संगम वाले पूरे क्षेत्र पर कब्जे की थी


(फाइल फोटो - गलवान घाटी के इसी इलाके में 15 जून को हुई थी हिंसक झड़प)



     चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिजियान  झाओ ने ट्विटर पर लिखा- “गलवान घाटी LAC की चीन वाली दिशा में चीन-भारत सीमा के पश्चिमी सेक्शन पर स्थित है. कई वर्षों से चीनी बॉर्डर सैनिक इस क्षेत्र में पेट्रोलिंग कर रहे हैं और ड्यूटी दे रहे हैं.” लेकिन विशेषज्ञों के मुताबिक कुछ पुराने चीनी नक्शों में असल में स्वीकार किया गया है कि घाटी का दक्षिण-पश्चिमी हिस्सा, भारतीय क्षेत्र के भीतर आता है, जो कि LAC के करीब है.


     अमेरिका स्थित एम टेलर फ्रावेल चीन मामलों के प्रसिद्ध एक्सपर्ट होने के साथ MIT सिक्योरिटी स्टडीज प्रोग्राम के डायरेक्टर हैं. फ्रावेल ने पुराने चीनी नक्शों को दिखाते हुए कहा कि चीन का घाटी पर दावा गलवान और श्योक नदियों के संगम से पहले ही खत्म हो जाता है. फ्रावेल ने नक्शे के साथ ट्वीट में लिखा- "1962 के युद्ध के चीनी इतिहास से जुड़ा ये नक्शा भी दिखाता है कि चीन का गलवान घाटी पर दावा गलवान और श्योक के मिलने से कुछ पहले समाप्त हो जाता है."


Popular posts
2,362 करोड़ का ड्रग्स जला देना, अवैध तस्करी के खिलाफ हमारी शीर्ष प्राथमिकता - देवेश चंद्र श्रीवास्तव (DGP, मिजोरम)
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वारा रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस से देश में नए इलेक्ट्रॉनिक युग का प्रारंभ होगा - डॉ बी .डी. कल्ला
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
हर किसान का यही पैगाम, खेत को पानी, फसल को दाम - रामपाल जाट