पाक हाई कमीशन में 50% स्टाफ की होगी कटौती

                                  जासूसी और आतंकी गतिविधियों को लेकर भारत का बड़ा फैसला


     भारत ने नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग को अपने 50 फीसदी स्टाफ कम करने को कहा है. पाकिस्तान राजनयिक संबंधों के मामले में वियना कन्वेंशन का लगातार उल्लंघन करता है, इसलिए ये फैसला लिया गया है. भारत भी इस्लामाबाद में अपने 50 फीसदी स्टाफ कम करेगा. अगले सात दिन में ये फैसला लागू हो जाएगा.



     पाकिस्तान उच्चायोग के एक्टिंग हाई कमिश्नर को बुलाकर भारत ने उन्हें इस बात की जानकारी दी है और कहा है कि भारत के बार-बार कहने के बावजूद पाकिस्तान का रवैया राजनयिक संबंधों के मापदंड पर खरा नहीं उतर रहा. पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी जासूसी और आतंकी संगठनों के साथ मेल-मिलाप करते रहे हैं. हाल ही में इसके दो अधिकारी जासूसी करते हुए रंगे हाथ पकड़े गए।


     दूसरी तरफ़ इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के राजनयिकों को लगातार पाकिस्तान की तरफ से प्रताड़ित किया जा रहा है. कुछ दिन पहले ही भारत के २ कर्मचारियों को बन्दूक की नोक पर अगवा कर उनके साथ बर्बर व्यवहार किया गया था और फर्जी मामले में फंसाया गया था. दोनों ने 22 जून को वापस देश लौटने के बाद आज अपनी आपबीती बतायी है कि किस तरह से उन पर ज़ुल्म ढाया गया.  पाकिस्तान विएना संधि और दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों को लिए को लेकर हुए समझौते के उल्लंघन का दोषी रहा है. इस फैसले के लागू हो जाने के बाद दोनों ही देशों के दूतावास में क़रीब 55-55 स्टाफ़ रह जाएंगे.