अरबों की संख्या में डंप मॉस्क-ग्लब्स समुद्र को बना रहे जहरीला

     महामारी को रोकने का जरिये बने फेसमास्क, ग्लब्स और पीपीई किट जैसे रक्षा कवच इंसान की लापरवाही से समुद्र को जहरीला बनाने का जरिया बन गए हैं। हर माह अरबों की संख्या में फेसमॉस्क और ग्लब्स समुद्र में फेंके जा रहे हैं, जो जलीय जंतुओं के लिए जानलेवा हो गए हैं। ओशियन-एशिया संस्था का कहना है कि मेडिकल कचरे से करोड़ों जलीय जीवों की मौत हो सकती है।



समुद्र तटों पर टनों मॉस्क का ढेर - ओशियन-एशिया संस्था ने हांगकांग, तुर्की, फ्रांस और ब्रिटेन के समुद्री तटों में कचरे पर सर्वे किया। तटों से सौ मीटर की दूरी तक कई टन कोविड से जुड़ा मेडिकल कचरा पाया गया।


200 से ज्यादा देशों में इस्तेमाल - दुनिया के कुल 215 देश संक्रमण की चपेट में हैं, जहां मॉस्क पहना जा रहा है। एक अनुमान के हिसाब से लोग एक से दिन में दो मास्क इस्तेमाल करते हैं।


बढ़ता प्रदूषण -13 करोड़ टन प्लास्टिक कचरा हर साल समुद्र में होता है डंप
400 से एक हजार साल लगते हैं प्लास्टिक को विघटित होने में


दिल्ली की स्थिति--- 35 टन बायो मेडिकल कचरे का रोज दिल्ली में निस्तारण
45 टन बायो मेडिकल कचरा दिल्ली में पैदा हो रहा रोज


 मॉस्क का बढ़ता बाजार
- 75 अरब डॉलर का फेसमॉस्क बाजार रहा पहली तिमाही में
- 50% दर से अगले सात साल तक वृद्धि करेगा यह बाजार।  
- 85% उत्पादन चीन में हो रहा मॉस्क का, कई दूसरे देश में आए।
- 8.9 करोड़ मेडिकल मॉस्क हर महीने चाहिए दुनिया को


निस्तारण न होना- विश्व आर्थिक मंच की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया का 30 फीसदी कचरा ही सही तरह से निस्तारित हो पा रहा है। बाकी धरती या नदियों, झील और समुद्र में डंप हो रहा है। 


कपड़े का मॉस्क लाभदायक - पर्यावरण संस्थानों ने कपड़े का या जल्दी से नष्ट हो जाने वाले मॉस्क को अनिवार्य बनाने की सलाह दी है।  जबकि अस्पतालों से निकला कचरा सीधे संयंत्रों में भेजना अनिवार्य हो। 


Popular posts
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image