बिहार राज्य निर्वाचन विभाग निष्पक्ष, स्वच्छ एवं स्वस्थ चुनाव कराने के लिए कृतसंकल्प

     पटना – 08 अक्टूबर, 2020. बिहार राज्य निर्वाचन आयोग ने राज्य में आगामी विधान सभा चुनावों की तैयारी के लिए अपनी प्रेस विज्ञप्ति सूचनार्थ प्रकाशित की - भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशन में बिहार राज्य निर्वाचन विभाग निष्पक्ष, स्वच्छ एवं स्वस्थ चुनाव कराने के लिए कृतसंकल्प है. एक ओर जिलों में मतदान कर्मियों का प्रशिक्षण तथा कोविड संक्रमण से बचते हुए समस्त गतिविधियों के संचालन का प्रशिक्षण जोर-शोर से चालू है। साथ ही साथ कोविड से बचाव हेतु समस्त तैयारियाँ भी प्रगति पर है.


1. नाम निर्देशन - आज प्रथम चरण के नामांकन की अंतिम तिथि है। कल नामांकन पत्रों की संवीक्षा की जायेगी। साथ ही साथ दूसरे चरण के विधान सभा क्षेत्रों हेतु नामांकन पत्र भी कल से प्राप्त किये जायेंगे. अब तक प्राप्त सूचनानुसार प्रथम चरण के कुल 71 विधान सभा क्षेत्रों हेतु इस बार ऑनलाईन नामांकन पत्र भरने की सुविधा के आलोक में अब तक 10 व्यक्तियों ने ऑनलाईन नामांकन भरा है.


     इस बीच बिहार विधान परिषद् के द्विवार्षिक निर्वाचन, 2020 के तहत स्नातक शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र हेतु जो नामांकन पत्र दाखिल किये गये थे, उसके नाम वापसी की आज अंतिम तिथि थी. ज्ञातव्य है कि स्नातक निर्वाचन क्षेत्र हेतु कुल 61 अभ्यर्थियों ने नामांकन भरा था, जिसमें से एकमात्र नाम वापसी दरभंगा निर्वाचन स्नातक क्षेत्र से हुई है। विनोद कुमार चौधरी (निर्दलीय) ने नाम वापस लिया है। इस प्रकार स्नातक निर्वाचन क्षेत्र हेतु कुल 60 अभ्यर्थी है. जहाँ तक शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र की बात है, इसमें कुल 45 अभ्यर्थियों ने नामांकन भरा है, जिसमें कोई नाम वापसी नहीं हुई है।


2. आदर्श आचार संहिता एवं विधि व्यवस्था - आदर्श आचार संहिता लागू होने की तिथि से लेकर अब तक बीकन लाईट, झंडा इत्यादि के दुष्प्रयोग से 22, लाउड स्पीकर अधिनियम के उल्लंघन के 06, अवैध बैठक / मजमा के 25, मतदाताओं को अनुचित लाभ पहुंचाने के 03 एवं अन्य विभिन्न प्रकार के 19 -- इस प्रकार के कुल 75 मामले दर्ज किये गये है। आदर्श आचार संहिता लागू होने की तिथि के 24 घंटे के अंदर सरकारी सम्पत्ति से 21,007 तथा निजी सम्पत्ति से 03,326 बैनर, पोस्टर इत्यादि हटाये गये है।