बारिश और ओलावृष्टि ने बढ़ाई दिल की धड़कनें - मंडियों में भीगा खुले आसमान के तले पड़ा गेहूं

     पंजाब में बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों, आढ़तियों और सरकार की टेंशन बढ़ा दी है। पहले शनिवार देर शाम से लेकर रातभर में कहीं हल्की तो कहीं भारी बारिश हुई, वहीं रविवार को भी दोपहर बाद एक-दो जगह को छोड़कर लगभग पूरे राज्य में भारी बारिश हुई है। मंडियों में खुले आसमान के नीचे पड़ी बिकी हुई और बिना बिकी फसल पानी में भीग गई। किसानों को खेतों में नरमे और ज्वार वगैरह की फसल भी करंड होने की चिंता सता रही है।


(Photo - अबोहर की अनाज मंडी में बारिश में भीग रही गेहूं की फसल। राज्यभर में दो दिन से बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों, आढ़तियाें और सरकार की टेंशन बढ़ा दी है)




  • बठिंडा की अनाज मंडी में रविवार शाम के करीब साढ़े 4 बजे हुई मूसलाधार बारिश के कारण गेहूं की बोरियां पानी में भी गई। बिना तुला गेहूं भी बारिश के पानी में बहने लग गया। हालांकि इससे पहले मंडी में काम कर रहे लोगों ने तिरपाल वगैरह से गेहूं को ढकने की कोशिश भी की, लेकिन तेज आंधी ने तिरपालों को उड़ा दिया।

  • अबोहर और मुक्तसर में शनिवार की रात को हल्की ओलावृष्टि व बारिश के बाद रविवार दोपहर बाद तेज आंधी व तेज बारिश के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। मुक्तसर जिले की मंडियों में खुले में 1 लाख 75 हजार 630 टन गेहूं भीग गया। 

  • फरीदकोट जिले में शनिवार रात को हुई ओलावृष्टि व रविवार शाम को आंधी तूफान के साथ हुई मध्यम तीव्रता की बारिश ने मौसम को एक बार फिर से खुशगवार कर दिया। पुरानी अनाज मंडी के कृषि उत्पाद विक्रेता व विशेषज्ञ प्रदीप मित्तल के अनुसार जिले में करीब सारी गेहूं की फसल की कटाई हो चुकी है व काफी फसल मंडियों में पहुंच चुकी है। बेशक बरसात से मंडियों में पड़ी फसल का नुकसान हुआ लेकिन खेतों में गेहूं की कटाई का काम पूरा होने व अगली फसल की बिजाई शुरू ना होने के चलते इन फसलों का ज्यादा नुकसान नहीं हुआ।

  • रविवार को मोगा में सुबह से तेज हवाएं चल रही हैं और शाम होते होते अंधड़ में बदल गई। सुबह 40 किलोमीटर प्रति रफ्तार से हवाएं चलती रही जिन की शाम होते होते इनकी रफ्तार 250 से 300 किलोमीटर हो गई। 

  • जिले के बाघापुराना क्षेत्र में हलकी बारिश होने से बाघापुराना मंडी समेत सभी बड़ी मंडियों में गेहूं की फसल को तरपालों से ढका गया है। शाम 6 बजे मोगा में बारिश बारिश शुरू हो गई, जो देर रात तक जारी थी।

  • पठानकोट जिले में पठानकोट, सरना और नरोट जैमल सिंह से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार रात को 10 एमएम तेज बारिश और 80 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से आंधी चली और रविवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे।


Popular posts
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image