कीर्तिमान - ‘रामायण’ ने दुनिया में सर्वाधिक देखे जाने का रिकॉर्ड बनाया

     छोटे पर्दे पर 33 साल बाद दोबारा प्रसारित हुई ‘रामायण’ ने दुनिया में सर्वाधिक देखे जाने वाले धारावाहिक का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। दूरदर्शन के अनुसार, धारावाहिक की 16 अप्रैल को प्रसारित हुई कड़ी ने दर्शकों के मामले में दुनिया के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। उस दिन इसे 7.7 करोड़ लोगों ने देखा।



     रामानंद सागर की ‘रामायण’ में अभिनेत्री दीपिका चिखलिया, अरुण गोविल और सुनील लहरी ने क्रमश: मां सीता, श्रीराम और लक्ष्मण की भूमिका निभाई थी। नये कीर्तिमान के बारे में दूरदर्शन चैनल के आधिकारिक अकाउंट से एक ट्वीट में कहा गया कि दुनियाभर में रिकॉर्ड व्यूअरशिप के साथ रामायण 16 अप्रैल को 7.7 करोड़ दर्शकों के साथ दुनिया का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मनोरंजन शो बन गया। रामायण ने दर्शकों के मामले में लोकप्रिय टीवी शो ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ को भी पछाड़ दिया।


इसलिए 16 अप्रैल को सबसे ज्यादा लोगों ने देखा - इस दिन रामायण में मेघनाद द्वारा लक्ष्मण को शक्ति बाण मारने के बाद का घटनाक्रम दिखाया गया था। जिसमें हनुमान, विभीषण के कहने पर लंका में जाकर वैद्य को बुलाकर लाते हैं और वैद्य के कहने पर संजीवनी बूटी के लिए पूरा पर्वत उठा लाते हैं। साथ ही लक्ष्मण के उपचार वाला दृश्य भी इसी दिन दिखाया गया था।


33 साल बाद प्रसारण - रामायण के बाद उत्तर रामायण को भी दर्शकों से काफी प्यार मिला, जिसकी अंतिम कड़ी 2 मई को प्रसारित हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरोना संक्रमण के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद दूरदर्शन नेशनल चैनल ने करीब तीन दशक बाद दोबारा रामायण का प्रसारण शुरू किया था।


Popular posts
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image