शराब ऑनलाइन होम डिलीवरी के लिए सरकार को मना रहीं कंपनियां

                                       ठेके पर सेफ शील्ड ट्रे से मिलेगी शराब


     देश में लॉकडाउन के चौथे चरण के दौरान ग्रीन जोन में आने वाले इलाकों में शराब की बिक्री की अनुमति दे दी गई है। हालांकि, इस दौरान शराब की दुकानों में कोरोना को रोकने लिए सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। वहीं, हो सकता है कि शराब की ऑनलाइन डिलीवरी की भी शुरुआत हो। इसके लिए सरकार से बातचीत चल रही है।



     ISWAI के चेयरमैन अमृत किरण सिंह ने हमारे सहयोगी अखबार एचटी को बताया कि हमने सरकार से कहा है कि शराब की दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जाएगा। जैसे ही नए दिशा-निर्देश लागू होंगे, हम 'सेफ शील्ड' की शुरुआत करेंगे। इसके तहत दुकानों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर के बारे में जानकारी दी जाएगी। वहीं, काउंटर पर ट्रे के जरिए से संपर्क रहित बिक्री होगी।


   सिंह ने कहा कि सेफ शील्ड के दूसरे चरण में शराब की बोतलों की होम डिलीवरी पर चर्चा होगी। इसके लिए स्विगी और जोमेटो जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्मों की सेवाओं की मदद ली जाएगी। ISWAI राज्य सरकारों का यह समझाने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि इससे दुकानों पर कम भीड़ होगी।


   देश में 25 फीसदी शराब की बिक्री ऑफलाइन दुकानों के जरिए से होती रही है। वहीं, 25 फीसदी बार के माध्यम से होती है। हालांकि, इस समय बार बंद चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले साल शराब की बिक्री से राज्य सरकारों को 2.84 लाख करोड़ रुपये का राजस्व मिला था। सिंह ने बताया कि उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस कुछ समय तक रहने वाला ही है, ऐसे में हमें सेफ शील्ड और होम डिलीवरी के बारे में सोचना होगा। यदि हम यह सही तरीके से कर लेते हैं तो राज्यों को 75 फीसदी राजस्व मिलने लगेगा।


Popular posts
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image