भारत की आपत्ति के बावजूद पाक का सबसे बड़ा डैम कार्य चीन की मदद से शुरू

     भारत की आपत्ति के बावजूद अवैध कब्जे वाले हिस्से पर पाकिस्तान ने चीन की मदद से डायमर भाषा बांध निर्माण शुरू कर दिया है। गिलगित बाल्टिस्तान में डायमर-भाषा बांध परियोजना पर बुधवार को निर्माण कार्य शुरू किए जाने के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ऐलान किया कि “यह पाकिस्तान के इतिहास में सबसे बड़ा बांध है।” भारत ने सिंधु नदी पर बांध बनाने को लेकर हुए समझौत पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा था कि पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले क्षेत्र में ऐसी परियोजनाएं शुरू करना ठीक नहीं है।



     चीन ने बांध निर्माण को लेकर भारत की आपत्त्ति को खारिज करते हुए कहा था कि पाकिस्तान और चीन के बीच आर्थिक सहयोग का लक्ष्य विकास को प्रोत्साहित करना और स्थानीय आबादी की खुशहाली है। अपनी नियमित ब्रीफिंग के दौरान मई में चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियांग ने कहा था कि बांध परियोजना दो सदाबहार दोस्त और सामरिक सहयोग साझीदारों के बीच आपसी फायदे के लिए है।  इस बांध का बजट 1406 अरब पाकिस्तानी रुपये है। चीन और पाकिस्‍तान के बीच हुए समझौते के मुताबिक, इस परियोजना को 2028 तक पूरा किया जाना है।


Popular posts
2,362 करोड़ का ड्रग्स जला देना, अवैध तस्करी के खिलाफ हमारी शीर्ष प्राथमिकता - देवेश चंद्र श्रीवास्तव (DGP, मिजोरम)
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वारा रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस से देश में नए इलेक्ट्रॉनिक युग का प्रारंभ होगा - डॉ बी .डी. कल्ला
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा