कल से शुरू हो रहा है सावन का महीना, सोमवार को ऐसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा

     सावन 2020: मानसून की पहली बारिश के साथ ही सावन के महीने की शुरुआत हो जाती है. इस साल सावन का महीना 6 जुलाई से शुरू हो रहा है. सावन का यह महीना 3 अगस्त को खत्म होगा. बता दें, इस साल सावन या फिर श्रावण मास में 5 सोमवार हैं. श्रावण महीने का अंत तीज या फिर रक्षाबंधन जैसे त्योहारों के साथ होता है. यह सभी त्योहार पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में धूम धाम से मनाए जाते हैं. 



     हालांकि, इस साल श्रावण मास के महीने में हर साल जैसी धूम-धाम देखने को नहीं मिलेगी. सावन के पहले सोमवार से ही मंदिरों में भगवान शिव और पार्वती के दर्शन और पूजा के लिए भक्तों की लाइन लग जाती है लेकिन कोरोनावायरस के कारण इस साल लोगों को अपने घरों में रहते हुए ही सावन मनाना होगा. इसके अलावा सावन के महीने में आयोजिक की जाने वाली कांवड़ यात्रा भी इस साल नहीं होगी.


     देशभर में फैली कोरोनावायरस महामारी के कारण सभी त्योहारों को लोगों को अपने घरों में ही मनाने की सलाह दी जा रही है. ऐसा इसलिए क्योंकि कोरोनावायरस काफी तेजी से संक्रमित होता है और भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में इसके फैलने का अनुमान भी ज्यादा रहता है. इस वजह से श्रद्धालुओं को इस साल सावन भी अपने घरों में रहकर ही मनाना होगा.


पंचाग के अनुसार सावन के महीने की प्रमुख तिथियां-
जुलाई 6- सावन का पहला सोमवार
जुलाई 13- सावन का दूसरा सोमवार
जुलाई 20- सावन का तीसरा सोमवार
जुलाई 27- सावन का चौथा सोमवार
अगस्त 3- सावन का पांचवा सोमवार और आखिरी सोमवार. 3 अगस्त को रक्षाबंधन भी है. हिंदू परंपराओं और मान्यताओं के अनुसार हिंदू केलैंडर का पांचवा महीना यानी कि श्रावण का महीना भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित है. 


 

 


 

Popular posts
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image