मित्रों, चिंगारी, रोपोसो... भारत में टिकटॉक की जगह ले रहे हैं ये 5 ऐप्स

     भारत सरकार ने पिछले सप्ताह 59 चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया। सीमा पर तनाव के बीच सरकार ने इन ऐप्स को देश की सुरक्षा और संप्रभुता के लिए खतरा बताते हुए प्रतिबंधित कर दिया। बैन किए गए ऐप्स में पॉप्युलर शॉर्ट वीडियो स्ट्रीमिंग ऐप टिकटॉक भी शामिल है, जिसके भारत में 20 करोड़ से अधिक यूजर्स थे।


     टिकटॉक के बैन होने से भारत के सोशल मीडिया स्पेस में एक खालीपन आया है, जिसे अब अभी भारतीय ऐप्स भरने में जुटे हुए हैं। मित्रों और चिंगारी जैसे ऐप्स बेहद लोकप्रिय हो रहे हैं और इनके डाउनलोड्स में तेजी से वृद्धि हो रही है। टिकटॉक की जगह ले रहे टॉप 5 भारतीय ऐप्स की लिस्ट।  



मित्रों (Mitron) - टिकटॉक का सबसे बड़ा और विकल्प मित्रों बन गया है। एक सप्ताह में ही इस ऐप के यूजर्स की संख्या 1 करोड़ से बढ़कर 1.7 करोड़ हो गई है। इसे 2 करोड़ रुपए का निवेश भी मिला है, जिसका इस्तेमाल करते हुए फाउंडर्स ऑपरेशंस को बढ़ाने की योजना बना रहे हैं।


चिंगारी (Chingari) - चिंगारी की भी लोकप्रियता बढ़ रही है। पिछले कुछ दिनों में इसके डाउनलोड्स में तेजी से वृद्धि हो रही है। पिछले सप्ताह गूगल प्ले स्टोर पर इसके डाउनलोड्स की संख्या 1 करोड़ से पार चली गई। कंपनी जल्द ही नया यूजर इंटरफेस पेश करने के साथ बग्स को दूर करने की कोशिश में है।


रोपोसो (Roposo) - चिंगारी और मित्रों की तरह रोपोसो के यूजर्स में भी बेहद कम समय में काफी वृद्धि हुई है। 12 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध रोपोसो के 2.2 करोड़ यूजर्स चाइनीज ऐप्स पर बैन के बाद महज 2 दिन में बढ़े हैं। 


मोज (Moj) - चाइनीज ऐप्स पर बैन के ठीक बाद शेयरचैट ने भारत में मोज ऐप को लॉन्च किया। ऐप के गूगल प्ले स्टोर पर 50 लाख डाउनलोड्स हैं और यह बंगाली, गुजराती, कन्नड़ सहित 15 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है।


हिपी (HiPi) - Zee5 ने भी टिकटॉक जैसे ऐप हिपी को लॉन्च करके इस मौके को भुनाने का प्लान बनाया है। ऐप को अभी लॉन्च नहीं किया गया है। लेकिन मार्केट में इसकी खूब चर्चा हो रही है।


Popular posts
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image