सीबीएसई 9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों का 30 फीसदी कम किया गया सिलेबस

     सीबीएसई स्कूलों में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए अच्छी खबर। सरकार ने सीबीएसई कक्षा 9वीं से 12वीं तक के सिलेबस को 30 फीसदी कम कर दिया है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को यह घोषणा की। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'सीबीएसई ने कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान शैक्षणिक नुकसान को ध्यान में रखते हुए कक्षा 9 से 12 के लिए 30 प्रतिशत तक सिलेबस को तर्कसंगत बनाया है।'



     निशंक ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण व लॉकडाउन के चलते विद्यार्थियों की पढ़ाई को हुए नुकसान के चलते हमने सीबीएसई से कक्षा 9वीं से 12वीं तक का सिलेबस कम करने के लिए कहा था। 


सीबीएसई ने जारी किया रिवाइज सिलेबस का नोटिफिकेशन - एचआरडी मंत्री की घोषणा के बाद सीबीएसई ने कक्षा 9वीं से 12वीं तक के एकडेमिक सिलेबस 2020-2021 को रिवाइज करने का नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया। नोटिफिकेशन में कहा गया है कि कोविड-19 व लॉकडाउन के चलते स्टूडेंट्स की पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ है। क्लासरूम स्टडी बुरी तरह प्रभावित हुई है। स्थिति को ध्यान में रखते हुए और मुख्य विषयों को कोर्स में रखते हुए कक्षा 9वीं से 12वीं तक के सिलेबस को तर्कसंगत बनाया गया है। 


     सीबीएसई ने कहा कि सभी स्कूलों के प्रमुख और शिक्षक यह भी सुनिश्चित करें कि जो टॉपिक सिलेबस से हटाए गए हैं, वह भी आवश्यकता पड़ने पर स्टूडेंट्स को बताएं और समझाएं। हालांकि हटाए गए टॉपिक इंटरनल असेसमेंट और वार्षिक बोर्ड परीक्षाओं का हिस्सा नहीं होंगे। इंटरनल असेसमेंट और वार्षिक बोर्ड परीक्षाओं में हटाए गए टॉपिक से प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे।कक्षा पहली से 8वीं तक की कक्षा के स्टूडेंट्स NCERT द्वारा जारी वैकल्पिक कैलेंडर का अनुसरण कर सकते हैं। 


Popular posts
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image