विकास दुबे मामला - 3 दर्जन पुलिसकर्मी संदेह के घेरे में

अब तक 4 पुलिस वाले हो चुके हैं सस्पेंड 


     कानपुर में 8 पुलिस वालों को शहीद करने वाला ढाई लाख का इनामी बदमाश विकास दुबे की तलाश तो चल ही रही है, साथ में उन पुलिसवालों को भी ढूंढा जा रहा है जिनके विकास के साथ करीबी रिश्ते थे। पुलिस को शक है कि किसी पुलिस वाले ने ही विकास को बताया था कि पुलिस टीम उसके घर आ रही है। पुलिस लगभग तीन दर्जन पुलिस कर्मियों से पूछताछ कर रही है। मामले की जांच कर रही टीम को पता चला है कि बिकरु गाव में विकास दुबे के घर कई पुलिस वालों का आना-जाना था। 



     जांच कर रही एसटीएफ इन पुलिस वालों के कॉल रिकार्ड्स चेक कर रही है। शक के घेरे में डिप्टी एसपी रैंक से लेकर कांस्टेबल तक हैं। सूत्रों के मुताबिक, शक के दायरे में आए पुलिस वालों के पास सवालों के जवाब नहीं हैं। अभी इस मामले में चौबेपुर थाने के 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड हुए हैं, इनमें आज (6 जुलाई) तीन पुलिस वाले सस्पेंड हुए है. जिसमें दरोगा कुँवर पाल, कृष्ण कुमार शर्मा और सिपाही राजीव शामिल हैं। इसके पहले चौबेपुर थाने के एसओ विनय तिवारी को ससपेंड किया गया था। 


     घटना के 3 दिन बाद भी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का कुछ पता नहीं चल सका है। कल यानी रविवार (5 जुलाई) को विकास दुबे का करीबी दयाशंकर अग्निहोत्री पकड़ा गया था। उसने कबूल किया था कि विकास दुबे ने ही पुलिसवालों पर गोली चलाई थी। दयाशंकर ने बताया था कि रेड की खबर विकास को थाने से पता चली थी, जिसके बाद विकास ने 25-30 लोगों को बुलाया था। 


Popular posts
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा
गंगा हरीतिमा एवं सरयू संरक्षण महाअभियान वन विभाग और समाजसेवीयों द्वारा सरयू आरती के साथ वृक्षारोपण, पितृ दिवस पर संपन्न हुआ
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना को फुटबॉल नहीं बनावे बल्कि सिंचाई प्रधान बनाने के लिए केन्द्र व राज्य मिलकर काम करें
Image