भारतीय नौसेना ने दोनों देशों के तनाव के बीच दक्षिण चीन सागर में तैनात किया जंगी जहाज

     पूर्वी लद्दाख के गलवन क्षेत्र में खूनी झड़प के बाद भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में अपना एक फ्रंटलाइन वॉरशिप (जंगी जहाज) तैनात किया है। यह वही क्षेत्र है जहां चीन भारत के युद्धपोतों का विरोध करता रहा है। भारत ने यह कदम चीन को आईना दिखाने के लिए किया है। दोनों देशों के बीच हुई वार्ता में चीन ने इस कदम पर अभी तक आपत्ति जता रहा था। भारत ने दक्षिण चीन सागर में यह युद्धपोत चुपचाप तरीके से तैनात किया है।



     सूत्रों के अनुसार दक्षिण चीन सागर में भारतीय नौसेना के युद्धपोत की तत्काल तैनाती का चीनी नौसेना और सुरक्षा व्यवस्था पर वांछित प्रभाव पड़ा है। भारतीय नौसेना के इस जहाज की तैनाती से चीन में बेचैनी का माहौल है। चीन ने भारत के सामने यह मुद्दा उठाया है और इस पर विरोध भी जताया है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये एक राजनयिक वार्ता में चीन ने भारत के सामने यह मुद्दा उठाया।


     कुछ दिन पहले ही पूर्वी लद्दाख में चीन से जारी तनाव के मद्देनजर नौसेना के शीर्ष कमांडरों की बैठक हुई। बैठक में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी की गतिविधियों से निपटने की तैयारियों पर चर्चा की गई। बीते तीन महीने में दोनों देशों के बीच दर्जन भर बार कूटनीतिक और सैन्य वार्ताएं हो चुकी हैं। भारत के लिहाज से नतीजा संतोषजनक नहीं रहा है। इसके बाद सैन्य कमांडरों ने एलएसी पर मौजूद कमांडिंग अफसरों से किसी भी स्थिति के लिए पूरी तरह से तैयार रहने के लिए कह दिया है। वैसे भारतीय सेना और वायुसेना ने मौके पर अपनी व्यवस्थाओं को चाक-चौबंद कर लिया है।