काग्रेंस प्रदेश प्रभारी अजय माकन ओर मुख्यमंत्री गहलौत की लम्बी बातचीत

News from - भूपेन्द्र औझा

राज्य में काग्रेंस के  बर्खास्त  विधायको की अभी तक बहाली नहीं?

      भीलवाड़ा। काग्रेंस प्रदेश प्रभारी अजय माकन ओर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की लम्बे समय बाद बीती रात मुलाकात एवम लम्बी बातचीत हुई हैं। माकन की पिछली दो जयपुर यात्राओं में मुख्यमंत्री गहलौत से भेट नहीं हुई थी। जबकि मुख्यमंत्री तब जयपुर मे ही थे। अजय माकन आज मंगलवार दोपहर फिर दिल्ली लौट गये। माकन मंगलवार शाम दिल्ली से जयपुर आये थे। उसके बाद बीती रात माकन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास स्थान पर करीब पांच घंटे तक रहे ओर उस समय प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मुख्यमंत्री निवास पर मौजूद थे। 

     आला सूत्रों के मुताबिक, बर्खास्त काग्रेंस विधायक भंवरलाल शर्मा, पूर्व मंत्री विश्वेन्द्र सिंह की विधिवत बहाली, प्रदेश मे रिक्त बोर्ड निगम मे नेताओं के मनोनयन, काग्रेंस प्रदेश संगठन गठन बाबत तीनो में इस विषय पर  चर्चा  होने के संकेत  हैं। सचिन पायलट ने भी गुजरे हफ्ते पत्रकारों से भेट वार्ता में प्रदेश बाबत गठित राष्ट्रीय तीन सदस्यी कमेटी के नेताओं से अपनी बातचीत करने ओर शीध्र उसकी क्रियान्विती करने के संकेत दिए थे। प्रदेश में काग्रेंस के दो विधायकों कैलाश त्रिवेदी, मंत्री मास्टर भँवरलाल मेघवाल के निधन  ओर 19 काग्रेंस विधायकों के कथित असंतोष बगावत करने पर दो काग्रेंस विधायकों को बर्खास्त करने से विधानसभा में काग्रेंस के विधायकों की संख्या बहुमत के करीब हो गई। करीब एक दर्जन निर्दलीय विधायको ने काग्रेंस को अलग समर्थन दे रखा हैं।सूत्रों के मुताबिक निर्दलीय विधायक काग्रेंस को समर्थन देने पर शासन मे अपनी भी भागीदारी सुनिश्चित करना चाहते है। 

     काग्रेंस हाईकमान द्वारा प्रदेश मे सत्ता- संगठन- असंतुष्ट विधायकों के बीच समन्वय स्थापित बाबत गठित की. तीन आला राष्ट्रीय नेताओं की कमेटी के सदस्य अहमद पटेल बीमारी के कारण गुरुग्राम वैदान्ता अस्पताल में भर्ती है तो दुसरे सदस्य वेणुगोपाल अपनी माता के निधन से गृह प्रदेश केरल गये हुये है। कमेटी में चर्चा के बिना राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार, बार्ड निगम में सरकारी मनोनयन, काग्रेंस संगठन में नियुक्ति नहीं होगी। काग्रेंस आला सूत्रो के मुताबिक वेणुगोपाल इस हफ्ते के आखिर दिनों में दिल्ली लौट सकते है।

     काग्रेंस शासित दो प्रदेशों राजस्थान, पंजाब में प्रदेश, जिला संगठन को राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भंग कर रखा है।पंजाब में तो भंग हुये करीब एक साल हो गया ओर राजस्थान में चार महीने से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी उसका फिर गठन नहीं हुआ। पंजाब काग्रेंस प्रभारी हरीश रावत इस को लेकर अपनी नाराजगी ओर राज्य मे सत्तारूढ़ होने पर भी प्रदेश में काग्रेंस सदस्यों के नहीं बढने को लेकर सत्तारूढ़ नेताओं पर दोषारोपण कर चुके।राजस्थान में भी कामोबेश काग्रेस का ऐसा ही आलम है। काग्रेंस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा" एक व्यक्ति एक पद" के सिध्दांत के बावजूद गुजरे चार महीने से मंत्री के साथ प्रदेशाध्यक्ष पद पर आरुढ़ है ओर राज्य में सबसे अहम नगर- देहात के चुनाव होने के बावजूद काग्रेंस प्रदेश- जिला- ब्लॉको संगठन  चार महीने से भंग पडा है।