संघ प्रचारक,भाजपा नेता सुनील बंसल को राष्ट्रीय संगठन में दायित्व के आसार

Report from - भूपेन्द्र औझा 

राम माधवन के फिर संघ मे लौटने के संकेत

     भीलवाड़ा। उत्तर प्रदेश भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल के भाजपा राष्ट्रीय संगठन मे पदोन्नति होने के आसार है। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नट्टा की नई संगठन टीम मे  पूर्व संगठन महामंत्री राम माधवन के रिक्त पद पर सुनील बंसल की नियुक्ति होने की खासी संम्भावना है। उत्तर प्रदेश भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल मूलते राजस्थान के कोठपुतली शहर के निवासी हैं। बडे व्यवसाईक घराने के पुत्र सुनील बंसल ने बाल्यकाल मे ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दामन थाम संघ प्रचारक बन गये। सुनील बंसल का प्रारंभिक संघ दायित्व मे विद्यार्थी परिषद (ABP )के उदयपुर अजमेर विभाग संगठन मंत्री का रहा था ओर भीलवाड़ा काफी प्रवास रहा। तब भीलवाड़ा मे विद्यार्थी परिषद से जुडे लक्ष्मी नारायण डाड, कश्मीर भट्ट, छैलबिहारी जोशी सहित छात्रों से उनका निकट सम्पर्क रहा है। मैरा भी तभी उन्ह से परिचय ओर दो बार मिलना हुआ। पर वह आगे मैरा जारी नहीं रहा। खैर, परिचय नाते मै संघनिष्ठ प्रचारक सुनील बंसल के संबंध में राजनैतिक कार्य जानकारी प्राप्त कर यह समाचार लिख रहा।

     सघं प्रचारक सुनील बंसल ने राजस्थान में लम्बे समय तक विद्यार्थी परिषद का दायित्व निभा ABP प्रदेश संगठन मंत्री का दायित्व निभा जयपुर, उदयपुर अजमेर भीलवाड़ा सहित प्रदेश के कई जिलों के महाविद्यालयों में विद्यार्थी परिषद की मजबूत टीम गठित कर के अध्यक्ष पद पर  जीत प्रदान कराई थी। प्रदेश के मौजूदा भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डा.सतीश पुनिया, उपनेता राजेन्द्र राठौड़ उन्ह मे है। भाजपा द्वारा नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर लोकसभा का चुनाव लडने ओर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के बनने के समय 2014 मे संघ प्रचारक सुनील बंसल  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री का दायित्व संभाल रहे थे। संघ ने तब प्रचारक सुनील बंसल ओर राम माधवन को संघ से भाजपा संगठन में भेजा ओर सुनील बंसल को भाजपा संगठन में तबके राष्ट्रीय महामंत्री अमित शाह के साथ उत्तर प्रदेश में संगठन महामंत्री का महत्वपूर्ण दायित्व सौंपा।

     संघ प्रचारक  सुनील बंसल की तबसे ही भाजपा आलानेता अमित शाह से काफी निकटता  एवम उनको अमित शाह की भरोसेमंद राजनेता की टीम में शुमार किया जाता हैं। राजस्थान भाजपा प्रदेश के मौजूदा संगठन में भी सुनील बंसल की महती भूमिका झलकती है।भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डा. सतीश पुनिया संघ प्रचारक सुनील बंसल की देखरेख में विद्यार्थी परिषद का कार्य कर चुके तो मौजूदा संगठन महामंत्री चन्द्र शेखर उनके नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में भाजपा संगठन का कार्य करते थे।उत्तर प्रदेश भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री का 2014 मे सुनील बंसल ने दायित्व संभाल 2015 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को उत्तर प्रदेश मे तीन चौथाई(75फीसदी ) सीटों पर जीत प्रदान कराई ओर उसके बाद उत्तर प्रदेश में हुये विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड 301 भाजपा विधायकों को विजय दिलाने का करिश्मा कर दिखाया। राम माधवन को भाजपा संगठन में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री ओर देश के पूर्वोतर राज्य के साथ जम्मू कश्मीर का प्रभार सौंपा गया था। संघ प्रचारक राम माधवन ने भी भाजपा को दोनो जगह सत्तारूढ़ कराने की कवायद की।

     संघ प्रचारक राम माधवन को भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नट्टा की नई संगठन टीम में संगठन महामंत्री पद का दायित्व नहीं प्रदान किया गया है। आला भाजपा राजनेतिक भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक, संघ प्रचारक राम माधवन के नरेन्द्र मोदी सरकार की कुछ योजना पर विचारिक मतभेद होने ओर राम माधवन द्वारा राष्ट्रीय समाचारपत्र मे उसके खिलाफ आलेख लिखने से भाजपा हाईकमान नाखुश बताया जा रहा है। हालांकि समाचारों मे राम माधवन को दक्षिण के प्रदेश से राज्य सभा चुनाव मे सांसद निर्वाचित करा नरेन्द्र मोदी सरकार के अगले मंत्रिमंडल विस्तार- फेरबदल मे स्थान मिलने की अटकलें लगाई जा रही हैं। लेकिन दक्षिण के कर्नाटक में ही अभी राज्य सभा की एक सीट रिक्त हैं ओर उस पर भी भाजपा नेतृत्व ने डा.के नारायण को दो दिन पहले अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। मैरे आला भाजपा सूत्र, राम माधवन का अभी राजनैतिक जीवन कार्य से  विरक्ति भाव होने है और वह फिर  संघ संगठन में दायित्व  निभाने की इच्छा जताने की जानकारी दे रहे है। ऐसा होता भी लग रहा है!

     भाजपा के वरिष्ठ विश्वनीय सूत्रों के मुताबिक भाजपा राष्ट्रीय संगठन में संघ प्रचारक राम माधवन के रिक्त पद पर उत्तर प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल को दायित्व प्रदान किये जाने की खासी संभावना है। उत्तर प्रदेश में भी गुजरे दो महा पूर्व प्रदेश सह संगठन महामंत्री पद पर आन्नद जी की नियुक्ति की जा चुकी हैं। वह संगठन महामंत्री सुनील बंसल के कार्य में सहयोगी रह, उत्तर प्रदेश संगठन महामंत्री दायित्व की प्रारंभिक भूमिका निभा रहे है।संघ मे परम्परानुसार प्रचारक को नये बडे दायित्व से पहले सह संगठन का दायित्व सौंप उसे बाद मे संगठन महामंत्री का दायित्व प्रदान किया जाता रहा है।  एक संकेत ओर मिला! केन्द्रीय गृह मंत्रालय में उत्तर प्रदेश को तीन भागों में विभाजित करने पर गम्भीरता से विचार- योजना बन रही हैं।

     बसपा नेता मायावती ने 2004 मे उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री रहते, प्रदेश को चार भागों में बटाने का बकायदा विधानसभा में प्रस्ताव पारित करा तत्कालीन केन्द्र सरकार को भेजा था। लेकिन बसपा का अगले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव मे बहुमत से दुर रहने ओर मायावती के मुख्यमंत्री पद से हटने के साथ ही केन्द्र सरकार मे यह प्रस्ताव ठंडे बस्ते में चला गया। लेकिन भाजपा की नरेंद्र मोदी सरकार के गृह मंत्रालय में अब इस पर फिर विचार कार्य शुरू हो गया।आलासूत्रो के मुताबिक उत्तर प्रदेश को तीन भोगों, पहला लखनऊ को केंद्र बना 20 जिलों को मिला कर अवध प्रदेश!दूसरा,प्रयागराज को केन्द्र बना 17 जिलों को मिला कर बुंदेलखंड!! तीसरा, गौरखपुर को केन्द्र बना 23 जिलों को मिला कर पूर्वांचल  प्रदेश बनाने पर गम्भीरता से विचार विमर्श एवम योजना का खाँका तैयार किया जा रहा है। इसे अगले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले अमली जामा पहनाने की संभावना जताई जा रही हैं। ऐसा होने से पहले ही अभी पूरे उत्तर प्रदेश भाजपा प्रदेश संगठन मे संगठन महामंत्री पद का कार्य देख रहे सुनील बंसल को उनके उपयुक्त भाजपा राष्ट्रीय संगठन में संघ दायित्व के रिक्त राष्ट्रीय संगठन महामंत्री पद पर मनोनीत करने के पूरे आसार है।

Popular posts
2,362 करोड़ का ड्रग्स जला देना, अवैध तस्करी के खिलाफ हमारी शीर्ष प्राथमिकता - देवेश चंद्र श्रीवास्तव (DGP, मिजोरम)
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वारा रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस से देश में नए इलेक्ट्रॉनिक युग का प्रारंभ होगा - डॉ बी .डी. कल्ला
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा