भारत में बनेगी रूसी वैक्‍सीन

हर साल 10 करोड़ डोज का करार

     दुनिया भर की निगाहें अब कोरोना वैक्सीन पर हैं. इसी कड़ी में रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी के लिए भारत की दवा कंपनी हेटरो ने रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) से करार किया है. इसके तहत भारत में हर साल वैक्सीन की 10 करोड़ डोज बनाई जाएंगी. रूस के सावरेन वेल्थ फंड ने एक बयान में कहा कि कोरोना की वैक्सीन स्पुतनिक-वी का उत्पादन 2021 में शुरू करने का इरादा है. स्पुतनिक के ट्विटर अकाउंट पर भी एक बयान के हवाले से इसकी जानकारी दी गई है. 

     इस समय इस वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल बेलारूस, यूएई, वेनेजुएला और अन्य देशों में चल रहा है. जबकि भारत में दूसरे चरण और तीसरे चरण का परीक्षण चल रहा है. रूस की इस वैक्सीन के डोज बनाने के लिए 50 से ज्यादा देश अनुरोध कर चुके हैं. ग्लोबल मार्केट में सप्लाई के लिए वैक्सीन का प्रोडक्शन भारत के अलावा चीन, ब्राजील, साउथ कोरिया और दूसरे देशों में भी किया जाएगा. 

     हेटरो लैब्स लिमिटेड के डायरेक्टर, मुरली कृष्ण रेड्डी ने कहा कि कोरोना के इलाज में स्पूतनिक वी की वैक्सीन सबसे कारगर है. वैक्सीन तैयार करने के लिए आरडीआईएफ के साथ इस पार्टनरशिप से हम बहुत खुश हैं. यह पार्टनरशिप कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हमारे कमिटमेंट और मेक इन इंडिया के मकसद को पूरा करने के लिए एक और कदम है. रूसी वैक्सीन स्पूतनिक वी वैक्‍सीन के 95 प्रतिशत असरदार होने का दावा किया गया है.

Popular posts
2,362 करोड़ का ड्रग्स जला देना, अवैध तस्करी के खिलाफ हमारी शीर्ष प्राथमिकता - देवेश चंद्र श्रीवास्तव (DGP, मिजोरम)
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वारा रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस से देश में नए इलेक्ट्रॉनिक युग का प्रारंभ होगा - डॉ बी .डी. कल्ला
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा