5 राज्य, 50 टीम, 154 घंटेः विकास दुबे को पकड़ने में नाकाम रही यूपी पुलिस, MP में गिरफ्तार

     कानपुर गोलीकांड का वॉन्टेड आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे आखिरकार यूपी पुलिस को चकमा देकर एमपी जा पहुंचा. जहां उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से उसे गिरफ्तार किया गया है. आठ पुलिसकर्मियों के सामूहिक हत्याकांड को अंजाम देने वाला विकास दुबे 9 जुलाई की सुबह करीब पौने 10 बजे एमपी पुलिस के हत्थे चढ़ गया. यानी उसे पकड़ने में करीब 154 घंटे का वक्त लग गया.



     गैंगस्टर विकास दुबे ने 2 जुलाई की रात कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों को गोलियों से भून डाला. गांव का एक इलाका खाकी के खून से लाल हो गया. इस वारदात को अंजाम देने वाले विकास दुबे की तलाश में पूरे उत्तर प्रदेश की पुलिस जी जान से जुटी थी. इसके बावजूद न केवल विकास दुबे पुलिस को गच्चा देता रहा, बल्कि वह यूपी, हरियाणा से लेकर मध्य प्रदेश तक घूमता रहा.


     उत्तर प्रदेश पुलिस लगातार विकास दुबे तक पहुंचने की खातिर उसके गुर्गों की धरपकड़ करती रही, लेकिन वो लगातार पुलिस को चकमा देता रहा. करीब 6 दिन बीत जाने के बाद भी विकास दुबे का अता-पता नहीं चल पाया था. लेकिन अचानक 9 जुलाई की सुबह पौने 10 बजे उसने उज्जैन में सरेंडर किया, तब जाकर पुलिस महाकाल थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया


     आखिर इतने दिन बीत जाने के बाद भी विकास दुबे का सुराग उत्तर प्रदेश पुलिस को क्यों नहीं मिल पाया. यूपी पुलिस विकास दुबे के गुर्गों के एनकाउंटर में उलझी रही और उधर, वह मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में जा पहुंचा. फिलहाल, स्थानीय पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है. यूपी पुलिस ने भी विकास दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है.