संघ की अभिभावकों से अपील " साथ जुड़े, सभी को जोड़े

 News from - SAS

उम्मीद : जिन बच्चों की छुटी पढ़ाई संयुक्त अभिभावक संघ दुबारा शुरू करवाएगा

बुधवार को ऐसे बच्चों के डाटा कलेक्शन को लेकर होगा अभियान लॉन्च

संघ की अभिभावकों से अपील " साथ जुड़े, सभी को जोड़े " किया हेल्पलाइन नम्बर

जयपुर। शिक्षा में सम्पूर्ण सुधार को लेकर कार्य कर रहे अभिभावकों के प्रमुख संगठन संयुक्त अभिभावक संघ ने जनहित को ध्यान में रखकर कोरोना महामारी से पीड़ित लोगों की मदद के लिए " महामारी के दौरान लगे लॉकडाउन और बेरोजगारी से जिन बच्चों की पढ़ाई छुटी है, उन सभी बच्चों का डाटा एकत्रित कर उन सभी की पढ़ाई दुबारा शुरू करवाने को लेकर एक अभियान का बुधवार से शुभारंभ कर रहा है।" संघ ने इस अभियान को लेकर राजस्थान के सभी अभिभावकों से साथ जुड़ने और सभी को जोड़ने की अपील जारी करते हुए, अभियान की जानकारी के लिए राज्यस्तरीय 9772377755 हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किया है।

संयुक्त अभिभावक संघ राजस्थान प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक जैन बिट्टू ने बताया कि यह अभियान राजधानी जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, उदयपुर, बीकानेर, जोधपुर, कोटा, भरतपुर सहित पूरे प्रदेश में 25 मई से 24 जून तक चलाया जाएगा। इस दौरान सभी जगहों से ऐसे बच्चों का डाटा इकठ्ठा किया जाएगा। जिन बच्चों की कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन और उससे उपजे विपरीत हालातों की वजह से पढ़ाई छूट गई है। संयुक्त अभिभावक संघ उन सभी बच्चों के लिए विकल्प तलाशने का काम करेगा और दुबारा पढ़ाई शुरू करवाने में सहयोग देंगा।

संघ प्रदेश अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल ने बताया कि कोरोना महामारी का सर्वाधिक दुष्प्रभाव बच्चों की शिक्षा पर पढ़ा है। इस महामारी चलते लोगों ने अपनी नोकरियाँ खो दी है, बहुत सारे लोगों के काम-धंधे बन्द हो गए और ऐसे परिवार है जिनके मुख्या कोरोना महामारी के शिकार हो गए। जिसकी वजह से वह आर्थिक तंगी के भी शिकार हो गए और स्कूलों की मनमानी फीस ना भर पाने के चलते बड़ी संख्या में उनके बच्चों की पढ़ाई छूट गई है। यह अभियान उन्ही बच्चों को ध्यान में रखकर चलाया गया है जिससे किसी भी बच्चे का भविष्य खराब ना हो और वह समय रहते जरूरी शिक्षा का लाभ लेकर देश और समाज के विकास ने अपना योगदान दे सके।

*ऐसे चलेगा अभियान*

संयुक्त अभिभावक संघ द्वारा की जा रही इस पहल से निश्चित तौर बच्चों को शिक्षा मिल सकती है किंतु उसके लिए अभिभावकों को इस अभियान से जुड़ना होगा। यह अभियान 4 से 5 चरणों मे चलेगा। जिसके तहत प्रथम चरण में डाटा इकठ्ठा किया जाएगा। द्वितीय चरण में डाटा की जांच छटनी कर सूची तैयार की जाएगी। तीसरे चरण में विकल्प तलाशें जाएंगे, राज्य सरकार और शिक्षा विभाग सहित स्कूलों से भी संपर्क किया जाएगा और चौथे व पांचवें चरण में बच्चों को शिक्षा से जोड़ने का कार्य किया जाएगा।

*अभियान से जुड़ने के लिए दिए विकल्प*

जयपुर जिला अध्यक्ष युवराज हसीजा ने बताया कि अभियान को अधिक से अधिक अभिभावकों तक पहुंचाने के सोश्यल मीडिया (व्हाटसअप, ट्वीटर, इंस्ट्राग्राम, टेलीग्राम, मेसेज) आदि का भी इस्तेमाल किया जाएगा। साथ ही एक गूगल फॉर्म और सिंपल फॉर्म (पीडीएफ व जेपीजी) को भी अभिभावकों तक पहुंचाया जाएगा। जिससे प्रत्येक अभिभावक अपनी सुविधानुसार आसानी से भरकर हमें भेज सकेंगे। साथ ही इस अभियान के लिए संघ के सभी पदाधिकारियों और सदस्य 

Popular posts
2,362 करोड़ का ड्रग्स जला देना, अवैध तस्करी के खिलाफ हमारी शीर्ष प्राथमिकता - देवेश चंद्र श्रीवास्तव (DGP, मिजोरम)
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में नंवे अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन
Image
पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ERCP को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें - रामपाल जाट
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी द्वारा रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में दो दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस से देश में नए इलेक्ट्रॉनिक युग का प्रारंभ होगा - डॉ बी .डी. कल्ला
Image
यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी एवं रीजनल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय नवी अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन होगा